आज निफ्टी आईटी इंडेक्स 5.74 फीसदी लुढ़क गया। (फोटो : ब्लूमबर्ग)

शेयर बाजार में नुकसान क्यों होता हैं ? 1.शेयर बाजार सीखने पर ध्यान न देना। 2.दुसरो की बाते या टिप। 3.अपने आप को बड़ा समजना। 4.अपने आप को बड़ा समजना। 4.

निफ्टी 18100 के ऊपर बंद, सेंसेक्स 241 अंक टूटा, निवेशकों को 2 दिन में 7 लाख करोड़ रुपये का नुकसान

अच्छे वैश्विक संकेतों के बाद भी आज लगातार दूसरे दिन भी शेयर बाजार में बिकवाली रही. निफ्टी और सेंसेक्स करीब 1 महीने के निचले स्तर पर बंद हुआ. ब्रॉडर मार्केट में भी आज पूरे दिन भारी बिकवाली देखने को मिली. मिडकैप इंडेक्स में आज 1 शेयर में तेजी के बदले 6 शेयरों में गिरावट देखने को मिली. बाजार में भारी बिकवाली की वजह से दो दिनों में ही बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) के कुल मार्केट कैप में 7 लाख करोड़ रुपये की गिरावट आई है.

वीकली एक्सपायरी के दिन निफ्टी 72 अंक टूटकर 18,127 और सेंसेक्स 241 अंक टूटकर 60,826 पर बंद हुआ. निफ्टी बैंक में 209 अंकों की गिरावट देखने को मिली, जिसके बाद ये 42,409 पर बंद हुआ. वहीं, निफ्टी मिडकैप इंडेक्स 274 अंक गिरकर 31,337 पर बंद हुआ.

आज निफ्टी के सबसे कमजोरी वाले शेयरों में UPL, M&M, Bajaj Finserv, Eicher Motor, Tata Motors और IndusInd Bank के शेयर शामिल रहे. Page Industries के मैनेजमेंट को सालाना आधार पर तीसरी तिमाही में हल्की कमजोरी की उम्मीद है. हालांकि, इसके बाद भी ये शेयर हल्की बढ़त पर बंद होने में कामयाब रहा.

कोरोना से सहमा शेयर बाजार, गिरावट के साथ हुआ बंद, दो दिनों में निवेशकों को इतना नुकसान

ABC News: ग्लोबल मार्केट में तेजी के बावजूद भारतीय शेयर बाजार के लिए गुरूवार का कारोबारी सत्र बहुत ही डरावना रहा. कोरोना के आने के डर से सरकार हाई लेवल मीटिंग कर रही है तो पांबदियों और अर्थव्यवस्था को होने वाले नुकसान से शेयर बाजार में घबराहट है. आज का कारोबार खत्म होने पर बीएसई सेंसेक्स 241 अंकों की गिरावट के साथ 60,826 पर तो निफ्टी 71 अंकों की गिरावट के साथ 18,127 अंकों पर बंद हुआ.


इससे पहले सेंसेक्स 400 अंकों की तेजी के बाद अपने हाई से 830 अंक नीचे जा फिसला तो निफ्टी अपने हाई से 250 अंक नीचे जा फिसला. शेयर बाजार में आज गिरावट की मार से कोई भी सेक्टर नहीं बचा. बैंकिंग, आईटी, ऑटो, एफएमसीजी, एनर्जी, फार्मा, मेटल्स जैसे सभी सेक्टर के शेयरों में बारी गिरावट रही. मिडकैप और स्मालकैप शेयरों की भी जबरदस्त पिटाई हुई. बाजार में बड़ी गिरावट के बावजूद अल्ट्राटेक सीमेंट के शेयर में 0.71 फीसदी, इंफोसिस में 0.68 फीसदी, कोटक महिंद्रा बैंक 0.58 फीसदी, एशियन पैंट्स 0.65 फीसदी, सन फार्मा 0.52 फीसदी और भारती एयरटेल के शेयर में 0.34 फीसदी की तेजी रही. जबकि बजाज फिनसर्व का शेयर 2.63 फीसदी, महिंद्रा एंड महिंद्रा 2.37 फीसदी, टाटा मोटर्स 2.08 फीसदी, लार्सन 1.70 फीसदी, टाटा स्टील 1.65 फीसदी की गिरावट के साथ बंद हुआ है. शेयर बाजार में गिरावट के चलते निवेशकों को आज भी भारी नुकसान उठाना पड़ा है. निवेशकों के 2.30 लाख करोड़ रुपये आज के कारोबारी सत्र में डूब गए. बीएसई में लिस्टेड शेयरों का मार्केट कैप 280.53 लाख करोड़ रुपये रहा जो बुधवार को 282.84 लाख करोड़ रुपये रहा था.

शेयर बाजार में भारी गिरावट निवेशकों को हुआ 6 लाख करोड़ का नुकसान, आईटी और मेटल में बिकवाली हावी

शेयर बाजार में भारी गिरावट निवेशकों को हुआ 6 लाख करोड़ का नुकसान, आईटी और मेटल में बिकवाली हावी

आज निफ्टी आईटी इंडेक्स 5.74 फीसदी लुढ़क गया। (फोटो : ब्लूमबर्ग)

शेयर बाजार में आज गुरुवार को चौतरफा बिकवाली हुई, जिससे निवेशकों को करीब 6 लाख करोड़ रुपए का नुकसान हुआ। शेयर बाजार के मुख्य सूचकांक की बात करें तो सेंसेक्स 1416 अंक या 2.61 फीसदी गिरकर 52,792 अंक पर बंद हुआ जबकि निफ्टी50 430 अंक या 2.65 फीसदी गिरकर 15,809 अंक पर बंद हुआ।

निफ्टी 50 केवल तीन स्टॉक बढ़े: नेशनल स्टॉक एक्सचेंज में मुख्य सूचकांक निफ्टी50 के पचास शेयरों में से 47 शेयर गिरे जबकि केवल 3 शेयर ही चढ़कर बंद हुए। चढ़ने वाले शेयरों में आईटीसी (3.32 फीसदी), डॉ रेड्डीज़ लैब्स (0.61 फीसदी) और पॉवर ग्रिड कारपोरेशन (0.18 फीसदी) का नाम शामिल है। वहीं, सबसे अधिक गिरने वाले शेयरों में विप्रो (6.25 फीसदी), एचसीएल टेक (5.99 फीसदी), इन्फोसिस (5.44 फीसदी), टेक महिंद्रा (5.43 फीसदी) और टीसीएस (5.42 फीसदी) शामिल रहे।

३. अपने आप को बड़ा समजना।

लोग शेयर बाजार ३-४ महीने सिखने के बाद समज़ ले ते हैं की उन्हें शेयर बाजार की सारी जानकारी मिल गई हैं । वह चाहते हैं की जैसे ही वह कोई ट्रेड ले या निवेश करे उन्हें मुनाफा (Profit) होना चाहिए ।

वह Loss बर्दाश्त नहीं कर पाते और वह लोग और ज्यादा पैसा लगाते हैं।

न मार्किट को देखते हैं, न शेयर को, न सेक्टर को वह चाहते हैं की हमारा Loss न हो और वह इसी अहंकार में अपना पैसा गवा भेटते हैं।

किसी भी व्यक्ति को शेयर बाजार में Loss होता ही हैं चाहे वह बड़ा ट्रेडर या इन्वेस्टर क्यों न हो।

४. शेयर बाजार को एक Scheme समझना।

कई लोग शेयर बाजार को एक इन्शुरन्स स्कीम समझ लेते हैं।

अगर हम इसमें पैसे डालेंगे तो हमारा पैसा बढ़ने ही वाला हैं।

नाही वह उसकी जानकारी लेते हैं नाही उसको समझते हैं।

और यह लोग किसी के कहने पर अपनी जमा पूंजी शेयर बाजार में निवेश कर बैठते हैं।

६. निष्कर्ष

शेयर शेयर मार्केट के नुकसान मार्किट एक पेशा हैं।

जैसे अगर आप किसी वयवसाय की अच्छी जानकारी नहीं रखते या उसे गंभीर रूप से नहीं लेते तो आप उसमे सफल नहीं हो पायंगे।

तो शेयर बाजार भी एक व्यवसाय हैं उसे भी गंभीर रूप से लेना चाहिए।

शेयर मार्किट क्या है ? What is Share market in Hindi?

Share Market kya hai? Share market या stock market एक ऐसा मार्किट जंहा कंपनी के शेयर की Selling aur Purchasing की जाती है यानि जिस मार्किट के अन्दर कंपनीज के शेयर को खरीदा और बेचा जाता है उसे Share market या stock market कहते है शेयर मार्किट के अंदर बहुत सी कंपनी अपने शेयर Issue करती है और बहुत से इंवेस्टवेर उन्हें खरीदते है और फिर उन्हें बेचते है और इस प्रक्रिया को Stock Market ट्रेडिंग कहते है share market in hindi basic knowledge

और यह एक बहुत से लोग बहुत सारा पैसा कमाते है और बहुत से लोग बहुत सारा पैसा डूबा भी देते हैकंपनी के शेयर की कीमत कभी घटती ही तो कभी बढती रहती है इसलिए Share market in hindi बहुत जोखिम वाली मार्किट है क्योकि यदि कोई किसी कंपनी के के शेयर खरीदता है तो उस इन्वेस्टर की उस कंपनी के लाभ और हानि के अन्दर हिसेदारी हो जाती है तो कंपनी अच्छी परफॉरमेंस के साथ काम कर रही है तो शेयर का रेट कम नही होगा और इन्वेस्टर को लाभ होगा और कंपनी की परफॉरमेंस अच्छी नही है तो इन्वेस्टर के शेयर रेट कम हो जायेगा और उसके पैसे डूब जायेंगे | share market ke fayde

शेयर बाजार के फायदे – Share Market Benefits hindi

उच्च लिक्विडिटी (High Liquidity) :- इंडियन शेयर मार्किट में, दो एक्सचेंज, बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) हैं ज्यादातर कंपनियां या तो इन इन दोनों एक्सचेंजों पर या इनमें से किसी एक में अपने शेयरों का बिज़नेस करती हैं। यह निवेशकों को उच्च लिक्विडिटी प्रदान करता है क्योंकि औसत दैनिक मात्रा अधिक होती है। इसलिए, यदि कोई इन्वेस्टर स्टॉक एक्सचेंजों पर किसी भी शेयर को खरीदना शेयर मार्केट के नुकसान या बेचना चाहता है, तो लिक्विडिटी इसे आसान बनाती है।

कम समय अवधि में उच्च रिटर्न (High returns) :- Bonds और Fixed Deposits जैसे अन्य इन्वेस्टमेंट ऑप्शन से तुलना की जाये तो शेयर मार्किट निवेशकों को तुलनात्मक रूप से कम समय अवधि में अधिक रिटर्नदेता है लेकिन शेयर मार्किट रूल को फॉलो करना पड़ेगा जैसे : ट्रेडिंग की योजना बनाना, स्टॉप–लॉस और ले–प्रॉफिट ट्रिगर्स का उपयोग करना, अनुसंधान और उचित परिश्रम करना, और धैर्यवान होने से स्टॉक निवेश में निहित risk को काफी कम किया जा सकता है और शेयर बाजार निवेश पर रिटर्न को बढाया जा सकता है |

Share Market Benefits hindi

लाभ और हानि की कोई सीमा नहीं :- शेयर मार्किट के अन्दर प्रॉफिट और loss की कोई लिमिट नही है इसके अन्दर इन्वेस्टर के उपर निर्भर करता है की कितने अच्छे से ट्रेडिंग कर सकता है और अच्छे पैसे कमा सकता है |

No Time और Space Limit :- शेयर मार्किट एक सप्ताह के अन्दर 5 दिन और हर दिन 6 घंटे चलता है ओ आप अपनी मर्जी के हिसाब से ट्रेडिंग कर सकते है और इसके लिए ज्यादा स्पेस की जरुरत नही पड़ती है और जंहा अच्छा इन्टरनेट मिले वंहा से ट्रेडिंग कर सकते है |

Regulatory Environment and Framework :- इंडियन स्टॉक मार्किट को स्टॉक एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया (SEBI) द्वारा कण्ट्रोल किया जाता है SEBI के पास स्टॉक एक्सचेंजों को विनियमित करने, इसके विकास और इन्वेस्टर के अधिकारों की रक्षा करने की जिम्मेदारी है। इसका मतलब यह है कि जब इन्वेस्टर शेयर बाजार शेयर मार्केट के नुकसान में वित्तीय प्रोडक्ट में निवेश करते हैं तो उसके साथ कोई धोखाधड़ी नही हो सकती है

रेटिंग: 4.19
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 452